Vaishali Voice message March 2014


01 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। भूमि की उर्वरा शक्ति बनाये रखने के लिये जैविक खादों को काम में लेना बहुत जरूरी है। वर्मी कम्पोस्टअच्छी जैविक खाद बनाने का एक सुगम तरीका है। इससे फसल अवशेष और कूड़े करकट का भी सही उपयोग हो जाता है। वर्मी कम्पोस्टबनाने को एक व्यवसाय की तरह भी विकसित किया जा सकता है। खरीफ फसल के लिये जैविक खाद उपलब्ध करने के लिये अभी से प्रयत्न करने होगें। वर्मी कम्पोस्टतैयार करने के लिये गड्डे बनाने और उस पर छाया करने के पक्के निमार्ण पर सरकारी आर्थिक सहायता भी मिल सकती है। कृषि विभाग से सम्पर्क कर वर्मी कम्पोस्ट बनाने के लिये तकनीकी मार्ग दर्शन और आर्थिक सहायता प्राप्त करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



02 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। हम जो फसलें उगाते हैं उसका उपयोग अधिकतर भोजन के रुप में मनुष्य द्वारा किया जाता है है यदि फसल में किसी तत्व की कमी होती है तो उसका असर मनुष्य के स्वास्थय पर भी पड़ता है। हर पोषक तत्व का पौधें में और मनुष्य शरीर में कोई विशेष काम होता है। पोटाश तत्व का काम मनुष्य शरीर में नसों और मांस पेशियों को सही रखता है। इसके साथ ही पोटाश तत्व मनुष्य शरीर में रक्त चाप को भी नियंत्रित रखता है। पोटाश की वजह से ह्दय रोग के खतरों में कमी होती है। यह आवश्यक है कि हम सन्तुलित और समुचित मात्रा में फसलों को पोषक तत्व दें जिससे मनुष्य का स्वास्थ भी अच्छा बना रहें।



03 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आपके जिलें में अगले तीन-चार दिन तक मोटे तौर पर दिन में धूप रहेगी। रात के समय सर्दी थोड़ी कम होगी और न्यूनतम तापमान 14-15 डिग्री सेल्सियस रहेगा। दिन में अधिकतम तापमान 26-27 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है। सुबह के समय हवा में नमी 45-59% और दोपहर में 21-34% रह सकती है। पिछवा हवा 10-13 किल¨मीटर प्रति घन्टे की रफतार से चलने का अंदेशा है। यह मौसम गेहूँ में दाना भराने व पकाने के अनुकुल है। इस समय फसल को सिंचाई की आवश्यकता होने पर सिंचाई अवश्य दें नहीं तो दानों का पकाव अच्छा नहीं होगा और दाने सुकड़े हुए और छोटे रह सकते है। इस समय यदि तेज हवा चल रही हो तो सिंचाई न दें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 09992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



04 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। हमारे देश में कृषि विश्वविद्यालय लगातार अनुसंधान पर काम कर रहे हैं जिसके कारण फसलों की नई किस्मे और खेती की उन्नत विधियां विकसित होती है। नये बीज और उन्नत तकनीक अपना कर खेती में आमदनी बढ सकती है। कृषि विश्वविद्यालय अनुसंधान की अपनी नई उपलब्धियों को किसानों को बताने के लिये खरीफ और रबी के मौसम में किसान मेलों का आयोजन करता है। इन मेलों में कृषि विश्वविालयों के सभी विभागों से साथ खेती से सम्बन्धित कई सस्थाएं और कम्पनियां भी भाग लेती हैं और किसानों को खाद, बीज, दवा, बीमा ऋण, मशीन आदि की जानकारी देती है। राजेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय, पूसा इसी महीने की 8 और 9 तारीख को रबी कृषि मेले का आयोजन कर रहा है। इसमें आप वहां के फार्म पर नई किस्मों और विधियों का देख पायेगें, साथ ही किसान गोष्ठि में आप वैज्ञानिकों से सीधा समपर्क कर अपनी समस्याअों का समाधान भी ले पायेगें। समय निकाले और आठ और नौ तारीख को राजेन्द्र कृषि विश्वविालय के मेले में भाग लें। धन्यवाद।



05 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। गेहूँ की फसल में गाभा के समय और दानों में दूध भरते समय सिंचाई करना आवश्यक है। गेहूँ फसल की इन अवस्थाअों पर सिंचाई नहीं की गई तो बालिया छोटी रह जायेगी और दाने सुकड़ जायेगें। गेहूँ में हमेशा हल्की सिंचाई करनी चाहिये। सिंचाई के बाद खेत में 6-8 दिन बाद पानी दिखाई नहीं देना चाहिये ज्यादा पानी देने से भूमि के प¨षक तत्व पानी में घूल कर जड़ क्षेत्र से नीचे चले जायेगें और पौधे को उपलब्ध नहीं होगें। इस कारण फसल पीली पड़ सकती है। दाने भरने की अवस्था में यदि तेज हवा चल रही हो तो सिंचाई न करें क्योंकि फसल के आड़े गिरने का खतरा रहता है। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 09992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



06 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम विभाग से मिली जान्कारी के अनुसार आपके जिलें में अब ठण्ड का प्रकोप खत्म होता जा रहा है। अगले तीन-चार दिनों में दिन का अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस पर कर सकता है। रात में भी ठण्ड कम होती रहेगी और न्यूनतम तापमान 15-16 डिग्री सेल्सियस पहुंच जायेगा। पिछवा हवा 9-11 किलोमीटर प्रति घन्टे की रफतार से चल सकती है। सुबह के समय हवा में नमी 44 से 58% और दोपहर में 21-29% तक रहने की सम्भावना है। इस समय गेहूँ में सिंचाई पर विशेष ध्यान दें। साथ ही खेत से अवांछित पौधों को भी निकाल दें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 09992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



07 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के अन्तर्गत केन्द्र सरकार और राज्य सरकार ने खेती के कई उपकरणों पर अनुदान का प्रावधान किया। गेहूँ की कटाई के लिये क्बाईन और रीपर तथा बाइन्डर पर 80% या एक निर्धारित राशी तक का अनुदान है। इन उपकरणों के उपयोग से खेती के काम में समय की बचत तो होती है जिससे आपको खेत में दूसरे काम करने के लिये समय मिल जाता है। साथ ही, कटाई-गहाई में दानों का जो नुकसान होता है उसमें भी काफी कमी होती है। कृषि विभाग से सम्पर्क कर राष्ट्रीय कृषि विकास और दूसरी अन्य योजनाअो से मिलने वाली सहायता का लाभ दें। धन्यवाद।



08 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। आज 8 मार्च अंर्तराष्ट्रीय महिला दिवस है पूरी दुनिया में आज का दिन महिलाओं के सम्मान और गरिमा को स्वीकार ने के लिये मनाया जाता है। महिलाओ को यह सम्मान बराबरी का दर्जा देने और उनके काम को मान्यता देने से होगा। खेती, बागवानी और पशुपालन में भी महिलाओ का विशेष योगदान है। जलवायु परिवर्तन को रोकने और उसके अनुसार ढलने में भी हम महिलाओ की भागीदारी को महत्वपूर्ण मानते हैं। घर और समाज में महिलाओ की भागीदारी लेकर ही हम जलवायु परिवर्तन से प्रभावित कृषि को सही दिशा और दशा दे सकेगें।



09 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों को यह संदेश CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आपके जिलें में अगले तीन-चार दिन तक मौसम शुष्क और साफ रहेगा। दिन में गर्मी बढती जायेगी और अधित्तम तापमान 33 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। न्यूनतम तापमान 15-19 डिग्री सेल्सियस रहेगा। हवा में नमी सुबह के समय 32-51% और दोपहर बाद 18-25% रहने की सम्भावना है। पिछवा हवा 2-11 किलोमीटर प्रति घन्टे की रफतार से चलने का अनुमान है। गेहूँ की फसल में दानों की दुधिया अवस्था से पकाव की अवस्था तक भूमि में पर्याप्त नमी रहनी चाहिये। आवश्यकतानुसार हल्की सिंचाई करें। धन्यवाद।



10 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। पिछले 7-8 महीनों से हम आपको खेती के ऐसे तरीको की जानकारी दे रहें हैं जिनसे आपकी खेती में लागत कम आये प्राकृतिक आपदाओं और मौसम के अनुसार खेती के काम हो और हमारे जो प्राकृतिक संसाधन है पानी, हवा जमीन उनका नुकसान न हो। इसके तहत आपने पोषक तत्वों के उपयोग कीड़े बीमारी और खरपतवार नियंत्रण, फसल विविधीकरण, सिंचाई आदि कामों के सही तरीकों की जानकारी ली है। इन जानकारियों को ध्यान में रखते हुए आपको आगे भी इस बात का ध्यान रखना है कि खेत के उपजाऊ पन को कैसे बरकार रखा जाय। पानी और दवाईयों की बचत कैसे करनी है। जलवायु परिवर्तन से कृषि को होने वाले खतरे से कैसे बचना है। आप की सोच ही आपको खेती में लगातार बढ़ोत्तरी की और ले जा सकती है। अपने गांव में सभी किसान भाई-बहन मिल कर इस पर चर्चा जरुर करें। धन्यवाद।



11 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS द्वारा दिया जा रहा है। जलवायु परिवर्तन के दुष्ट प्रभाव से बचने विविधीकरण की बात अकसर की जाती है। विविधीकरण का मतलब है कि हम हमारी खेती में विविधता लाये और थोड़ा बदलाव करें। यह बदलाव फसल चक्र में हो सकता है। कृषि पद्वति में भी हो सकता है और फसल के खेती के तरीकों में भी हो सकता है। धान-गेहूँ के फसल चक्र में एक दलहनी फसल जोडकर, धान और गेहूँ की सघन खेती कर खेत के कुछ हिस्से में दूसरी फसल लेकर, खेती के साथ पशुपालन, मुर्गी पालन, मधुमंक्खी पालन आदि को अपनाकर धान की सीधी बिजाई कर, खाद के इस्तेमाल के तरीको में सुधार कर, सिंचाई प्रणाली को बदलकर और फसल की नई किस्मों को अपनाकर हम विविधीकरण कर सकते हैं। आप जरा सोचे कि आप विविधी करण की किन विधियों को अपना कर जलवायु परिवर्तन को रोकते हुए अपनी खेती की आमदनी बढा सकते हैं। आपकी इस मुहीम में CCAFS हमेशा आपके साथ रहेगा। धन्यवाद।



12 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अगले तीन चार दिनों में आपके जिले में मौसम साफ और शुष्क रहेगा। मुख्यतः आसमान साफ रहेगा और वर्षा की सम्भावना नही है। दिन का अधिकतम तापमान 30-33 डिग्री सेल्सियस तक दर्ज किया जा सकता है जबकि न्यूनतम तापमान 16-18 डिग्री सेल्सियस तक रहने का अनुमान है। सुबह के समय हवा में नमी 35-45% और दोपहर बाद 19-20% रहने की समभावना है। हवा की गति रहेगी 6-7 किलोमीटर प्रति घन्टा और दिशा होगी पिछवा। अपने गेहूँ के खेत से अनावश्यक पौधे निकाले और दाने बनने की अवस्था में खेत में आवश्यकतानुसार हल्की सिंचाई करें। धन्यवाद।



13 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। गेहूँ के खेत में आपने देखा होगा कि कुछ बालियों में काला पाउडर बन जाता है। यह गेहूँ का खुली कांगयारी या अनावृत कलिका रोग है। कुछ लोग इसे Loose smut रोक के नाम से भी जानते हैं। इस रोग की रोकथाम का सही उपचार तो बीजोपचार ही है। लेकिन यदि खड़ी फसल में रोगग्रस्त बालियां दिखाई दें तो उन्हे काट कर एक पॉलीथीन या कागज के थौले में इक्क्ठा कर लेना चाहिये। यह सावधानी बरते कि काला पाउडर बिखरे नहीं। चुनी बालियों को जला दे या एक गढ्ढा खोद कर उसमें दबा दें। ऐसा करने से हम रोग को फैलने से रोक पायेगे। गेहूँ की अगली फसल के समय बीजोंपचार अवश्य करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



14 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। गेहूँ की फसल में चूहों से नुकसान खास कर पकाव की अवस्था में दिखाई देता है। चूहे अपना बिल बनाकर खेत में ही रहते हैं और फसल को नुकसान पहुचाते हैं। चूहों के नियंत्रण का आसान तरीका तो यही है कि खेत में सभी बिलों को शाम के समय बंद कर दिया जाय। जिन बिलों में चूहे होगें वे बिल सुबह खुले मिलेगें। हर खुले बिल में आधी टिकिया एल्यूमिनियम फास्फाइड़ रख कर बिल बंद कर दें। ऐसा करने से बिल के अंदर जहरीली गैस फैल जायगी और चूहे मर जायेगें। चूहे मारने का काम जिंक फास्फाइड का जहरीला चुग्गा बना कर भी किया जा सकता है। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



15 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों को CCAFS नमस्कार। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आने वाले तीन चार दिनों में आपके जिलें में मौसम साफ और शुष्क रहेगा। दिन का अधित्तम तापमान 33-37 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है। पिछवा हवा 4-6 किलोमीटर प्रति घन्टे की रफतार से चलने की सम्भावना है। सुबह के समय हवा में नमी 28-39% और दोपहर में 15-18% तक रह सकती है। गेहूँ की फसल पकाव पर आ रही है। खेत में चूहों के प्रकोप पर ध्यान दें। बाली में दाने सुकड़े नहीं इसके लिये एक हल्की सिंचाई दे सकते हैं। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 09992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



16 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। गेहूँ की कटाई के तुरन्त बाद आप मूंग की फसल ले सकते हैं जो आपको खरीफ की फसल की बुवाई से पहले दाल और हरी खाद भी दे सकेगी। एक एकड़ में 10-12 किलोग्राम बीज की आवश्यकता रहेगी पूसा वैशारबी, पूसा विशाल, सम्राट, सोना आदि किस्मों में से किसी एक का चयन करें। बीजों को Rhizobium तथा PSB जीवाणु खाद से उपचारित कर बुआई करें। बुआई के समय प्रति एकड़, 35 किलोग्राम DAP खाद बीज के नीचे ऊरे। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



17 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों CCAFS का नमस्कर और होली कि शुभकामनाएं। हमारे सारे त्यौहार खेती से जुड़े हैं। होली रबी की फसल के पकने का अहसास है। आपको अच्छी फसल मिलें। हमारी खेती हमेशा अच्छी रहे और हम जलवायु को भी अपनी खेती के लिये अच्छा बनाये रखे यही शुभकामनाएं हैं। यह होली आप सभी के जीवन में खुशियों के रंग बिखेरे यही शुभकामनाएं हैं।



18 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों CCAFS का नमस्कर। अकसर यह देखा गया है कि जब कभी सिंचाई या लगातार वर्षा के कारण खेत में पानी ज्यादा लगता है तो फसल पीली पड़ने लगती है। ऐसे पीले पन को दूर करने के लिये कुछ किसान खेत में अलग से यूरिया डालते हैं। क्लाईमेट स्मार्ट गाँव लक्ष्मीनारायण पुर - जिला वैशाली बिहार के श्री राम किशन सैनी, श्री शशी कुमार और श्री विनोद सैनी ने CCAFS के संदेशों को ध्यान से सूनने के बाद यह तय किया कि ऐसे समय मे अलग से यूरिया डालने की जरुरत नही है। कुछ दिन बाद जब खेत वापस बत्तर में आया तो उन्होने पाया उनके खेत भी उतने ही हरे थे जितने उन भाईयों के जिन्होने अलग से यूरिया डाला। संदेश सून कर आप में से कई लोग खाद और दवाइयों पर बे वजह होने वाले खर्चे को कम कर रहे हैं। इन संदेशों को लगातार सुनते रहे और फायदा उठाये। धन्यवाद।



19 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों को CCAFS का नमस्कर। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आपके जिले में अगले तीन चार दिन तक मौसम साफ और शुष्क रहेगा। दिन का अधित्तम तापमान 34-37 डिग्री सेल्सियस के बीच रह सकता है, न्यूनतम तापमान में भी बढ़ोत्तरी होकर 18-22 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है। सुबह के समय हवा में नमी 31-37% और दोपहर बाद 16-20% रह सकती है। बदलती दिशा से हवा 7-13 किलोमीटर प्रति घन्टे कि रफतार से चलेगी। गेहूँ की फसल में दाने के भराव की स्थिती। इस समय भूमि में पूरी नमी ह¨नी चाहिये। आवश्यकतानुसार सिंचाई करें लेकिन हल्की सिंचाई ही करनी चाहिये। इस समय गेहूँ के खेत में चूहों से नुकसान की सम्भावना रहती है इसलिये चूहा-नियंत्रण के उपाय सामूहिक रुप में करेगे तो अच्छा रहेगा। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 09992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



20 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कर। हमें गेहूँ की शुद्ध और साफ फसल मिले इसके लिये यह जरूरी है कि अभी हम खेत से दूसरी किस्म के पौधें और रोग ग्रस्त पौधों को खेत से निकाल दें। जो किसान बीज के लिये अपनी फसल रख रहे हैं उन्हे तो और अधिक सावधानी से इस काम को करना चाहिये। ऐसा करने से गेहूँ के किस्म कि शुद्धता बनी रहेगी, उसमें खरपतवार के बीच भी नही रहेग और निरोगी बीज ही मिलेगें। कटाई से पहले अभी गेहूँ के खेत से सारे ही अनावश्यक पौधें निकाल लें। धन्यवाद।



21 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कर। कटाई-गहाई के बाद जब आप गेहूँ को मण्डी ले जाय तो ध्यान रखे कि उसमे ज्यादा नमी न हो और किसी तरह से भी बदरंग, बदबू, खरपतवार के बीच टुकडे, टुटे दाने और कचरा-कंकंड न दो । साफ सुथरा और सूखा अनाज मण्डी मे ले जाये। FCI Food Corporation of India के अनुसार यदि दानों में नमी 14% से ज्यादा हुई तो उस गेहूँ को खरीदने से मना हो सकता है। दानों में नमी 12% से ज्यादा होने पर भी वजन में कटौती की जाती है। यदि अनाज में कुछ जीव दिखे तो प्रघुमीकरण का खर्चा भी किसान से वसूला जाता है। सूकड़े या कटे दानों की मात्रा 7% से ज्यादा नहीं होनी चाहिये। अपनी उपज का सही दाम पाने के लिये गेहूँ बाजार ले जाने से पहले धूप में सूखायें, छाने और साफ सुथरा सूखा अनाज ही मण्डी में ले जाये। धन्यवाद।



22 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों को CCAFS का नमस्कर। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आपके जिले में अगले तीन चार दिनों में मौसम में किसी तरह के बदलाव की सम्भावना नहीं है। दिन का अधिकतम तापमान 33-37 डिग्री सेल्सियस और रात में न्यूनतम तापमान 17-22 डिग्री सेल्सियस के बीच बना रहेगा। सुबह के समय हवा में नमी 33-56% और दोपहर बाद 16-26% रह सकती है। पूर्वी हवा 7-14 किलोमीटर प्रति घन्टे की रफतार से चलेगी। धीरे धीरे गेहूँ पकाव पर आ रहा है। कटाई के लगभग 10-12 दिन पहले आखरी सिंचाई कर देनी चाहिये। गेहूँ का दाना जब कठ¨र-कड़क हो जाय तो कटाई आरम्भ करें। धन्यवाद।



23 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। गेहूँ में आखरी सिंचाई दानों के पकाव की अवस्था पर करना आवश्यकत है। यदि इस समय पानी की कमी रही तो दाना सुकड़ा रह सकता है जिससे उपज में कमी हो सकती है। जब मौसम शांत हो तभी यह सिंचाई दें क्योंकि सिंचाई करने के बाद थोड़ी तेज हवा चली तो फसल आड़ी गिर सकती है। इस समय हल्की सिंचाई करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



24 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कर। आज कल बैंक द्वारा गांव के छोटे बटाई दार किसान और छोटे रोजगार कर्ने वाले लोगों को भी बिना बैंक गारन्टी के रोजगार करने के लिये कर्जा दिया जाता है। इसमे 4-10 लोगो का समूह बनता है और यही लोग एक दूसरे के गारेन्टर भी बनते हैं। यह समूह सयुंक्त देयता समूह या Joint Liability Group के नाम से जाने जाते हैं। कुछ लोग मिलकर कृषि आधारित रोजगार से अपनी आमदनी बढाने के लिये इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



25 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कर। मौसम के बदलाव के साथ इंसान की जिन्दगी में जोखिम बढता जा रहा है। वैसे किसी भी तरह का हादसा होने से कभी भी जान माल का नुकसान हो सकता है। आये दिन सड़क दुर्घटना, प्राकृति आपदा तथा बिमारियों का प्रकोप देखने को मिलता है। इन हादसों से होने वाले नुकसान से बचने के लिये बीमा कराना बहुत जरूरी है। बीमा कराने पर हादसा हो जाने के बाद बुरे वक्त में बीमा से प्राप्त राशि ही मनुष्य का साथ देती है। चाहे जीवन बीमा हो या पशु पालन फसल, वाहन, सामान, दुर्घटना और स्वास्थ बीमा हो, बीमा जरूर कराये। इससे बुरे वक्त में हम और हमारा परिवार सुरक्षित रहेगा। धन्यवाद।



26 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों को CCAFS का नमस्कर। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अगले तीन चार दिनों में आपके जिलें गर्मी बढने के आसार है और मौसम शुष्क और साफ रहेगा। दिन का अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। न्यूनतम तापमान भी 22-24 डिग्री सेल्सियस के बीच रहने का अनुमान है। सुबह के समय हवा में नमी 23-41 प्रतिशत और दोपहर बाद 11-20 प्रतिशत रहने की सम्भावना है। पिछवा हवा 6-13 किलोमीटर प्रति घन्टे की रफतार से चल सकती है। गेहूँ में पकाव की अवस्था बन रही है। खेत में चूहा नियंत्रण की आवश्यकता हो तो उपाय करें। साथ ही फसल कटाई की भी व्यवस्था करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 09992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



27 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों को CCAFS का नमस्कर। दिन का तापमान धीरे धीरे बढ रहा है। अधित्तम और न्यूनतम तापमान का औसत अब 30 से 32 डिग्री सेल्सियस रह रहा है जो गेहूँ के शीघ्र पकाव के लिये अनुकूल है। अब आपको गेहूँ की फसल की कटाई-गहाई का इंतजाम भी कर लेना चाहिये। यह काम कम्बाईन, रीपर, थेशर मशीनों की सहायता या पारम्परिक तरीके से किया जा सकता है। समय पर कटाई करें। यदि गेहूँ के दाने को मूह में दात से काटने की कोशिश करें और वो थोडे दबाव और आवाज के साथ कटे तो समझो की अब फसल कटाई योग्य हो गई है। देर से बुवाई की गई फसल अभी हरी है तो अब उसमें अखिरी सिंचाई भी देनी चाहिये जिससे दाना पूरे आकार का बना रहे और सुकड़े नहीं। यदि आपको किसी विशेष जानकारी की आवश्यकता हो तो CCAFS की हेल्पलाइन 09992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



28 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों। नमस्कार। हम अपको एक बार फिर याद दिला दें कि इस बार गेहूँ की कटाई के बाद आप अपने खेत की मिट्टी का नमूना जरूर लें और अपने जिले की मिट्टी परिक्षण प्रयोगशाला में भेजें। मिट्टी का नमूना आपके खेत का सही प्रधिनित्व करें इसके लिये यह आवश्यक है कि आप खेत की उपरी 15 सेंटीमीटर यानि 6 इन्च सतह का सही नमूना लें। पूरे खेत में नाली, भूसे या देशी खाद के इक्कठा हुए स्थान, मेड़, पेड़ की छाया वाली जगह को छोड़कर पांच-छ जगह से छ इन्च गहरी सीधी परत निकालते हुए मिट्टी लें। उसे एक अखबार पर एकसार मिलाकर गोल फैला दें। फिर उसको चार भाग में बांटते हुए डंठे के सामने के दो हिस्से को निकाल दें। फिर वापस मिट्टी मिलाकर मिट्टी को कम करते रहे जब तक कि आपके पास आधा किलोग्राम मिट्टी बच जाये। इस मिट्टी को एक कपड़े की साफ थैली में आपका नाम, पता खेत और फसल की जानकारी के साथ मिट्टी परीक्षण प्रयोगशाला को भेजें। आपको आप के खेत की उर्वरक शक्ति की जानकारी के साथ अपनी फसल के लिये खाद की सिफारिश भी मिलेगी। खाद का उपयोग मिट्टी की जांच और न्यूट्रियंट एक्सपर्ट के आधार पर ही करें। धन्यवाद।



29 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाई-बहनों के लिये यह संदेश CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अगले तीन-चार दिनों में आपके जिलें में मौसम में किसी बदलाव की आंशका नहीं है। मौसम साफ और शुष्क रहेगा। दिन का अधिकतम तापमान 37-40 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 19-20 डिग्री रहने का अनुमान है। सुबह के समय हवा में नमी 18-30% और दोपहर बाद 8-12% रह सकती है। पिछवा हवा 4-19 किलोमीटर प्रति घन्टे की गति से चलने की सम्भावना है। यदि हवा तेज हो तो सिंचाई देने पर गेहूँ की फसल आड़े गिर सकती है। अतः जब हवा रुकी हुई हो तो आखरी हल्की सिंचाई दें। साथ ही कटनी और बौनी की तैयारी करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 09992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



30 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाई-बहनों को CCAFS का नमस्कार। गेहूँ के बाद हरी खाद या मूंग की फसल लेने की बात कहीं गई थी। लेकिन जो लोग यह काम नहीं कर पा रहें हैं उनके लिये सलाह है कि इस गर्मी में खेत की गहरी जुताई करें। गर्मी की गहरी जुताई से खेत में पनप रही बीमारी और कीट के जीवाणुअों में कमी आयेगी। सूर्य की रोशनी से भूमि के कणों में भी बिखराव बढेगा और भूमि अच्छी भूर भूर बनेगी। जुते हुए खेत में जब वर्षा होगी तो पानी भी अच्छी तरह से जज्ब होगा। इस तरह से भूमिगत पानी की उपलब्धि भी बढेगी। पानी भूमि में जज्ब होने से इसका बहाव भी कम होगा यानि पानी के बहाव के साथ जो मिट्टी कटती थी वो रुक जायेगी। जल संरक्षण और भूमि संरक्षण दोनों ही तरीके से गर्मी की जुताई लाभदायक रहेगी। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



31 March

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाई-बहनों को CCAFS की अोर से चैत्र नवरात्रि की शुभकामनाएं। आने वाली खरीफ में आप सब फिर धान की खेती करने वाले हैं। बासमती या अधिक उत्पादन देने वाली किस्मों का आपको चुनाव करना है। संकर धान या बासमती धान के बीज का अभी से इंतजाम कर लेगें तो अच्छा रहेगा। बीजाई के समय बीज की उपलब्धी में दिक्कत आ सकती है। बीज निगम या कृषि विश्वविद्यालय या कृषि विभाग से सम्पर्क कर बीज की उपलब्धता की जानकारी कर समय से पहले ही बीज का प्रबन्ध कर लें। धन्यवाद।


Copyright @ 2014 CIMMYT All Rights Reserved || Developed By :Kisan Sanchar