Vaishali Voice message May 2014


May 1

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अगले तीन-चार दिनों में आपके जिलें में मौसम बनता बिगड़ता रहेगा। शुक्रवार की दोपहर बाद अधंड़ के सथ कहीं कहीं छिटे पड़ सकते हैं। दिन का अधिकत्तम तापमान 40-43 डिग्री सेल्सियस तथा न्यूनत्तम तापमान 26-28 डिग्री सेल्सियस बना रहेगा। सुबह के समय हवा में नमी 49-73% और दोपहर बाद 11-42% रहने का अनुमान है। पूरवा हवा 13-19 किलोमीटर प्रति घन्टे की रफतार से चलने की सम्भावना है। गेहूँ के खाली खेत की गहरी जुताई करें औरखेत में बचे हुए भूसे को जलाये नहीं धन्यवाद।



May 2

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। खरीफ में सुगंधित औरसंकर धान की किस्मों के अलावा मध्यम अवधि यानि 135-140 दिन में तैयार होने वाली मध्यम जमीन पर उगने वाली किस्मों में सीता, कनक, राजेन्द्र श्वेता औरसम्भा महसूरी किस्मों की सिफारिश की गई है। सभी बौनी किस्में हैं। जो औसत 40-50 क्विंटल प्रति हेक्टर है। समय पर बुवाई के लिये बीज का प्रबन्ध कर लें। इन किस्मों के बिचड़े सामान्यतौर पर 25-30 दिन के होते हैं लेकिन श्री विधि में 8-12 दिन के बिचड़े ही रोपे जाते हैं। धन्यवाद।



May 3

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS द्वारा दिया जा रहा है। गर्मी के मौसम में उगाई गई मूँग की फसल मे बालो वाली सूंडी, पत्ता छेदक हरा तेला और सफेद मक्खी हानि पहुंचा सकते हैं। बालो वाली सूंडी की रोकथाम के लिये एक एकड़ क्षेत्र में 200 से 250 मिली लीटर मोनोक्रोटोफॉस (मोनोसिल/न्योबाक्रान) 36. एस.एल या 200 मिली लीटर डाइक्लोरवॉस 76 ई.सी. को 250 लीटर पानी में मिलाकर छिड़के। हरा तेला या सफेद मक्खी की रोकथाम के लिये 250 मिली लीटर ऑक्सीडेमेटॉन मिथाईल ( मेटासिस्टॉक) 25 ई.सी. को 250 लीटर पानी मिलाकर 2-3 हफ्ते के अंतराल पर छिड़के। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



May 4

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। आपको मोबाइल फोन के माध्यम से संदेश देते हुए आठ महीने से उपर हो गये हैं। आप सभी ने इन संदेशो को सूना है और खेती में कुछ न कुछ लाभ लिया है। साथ ही जलवायु परिवर्तन को रोकने के बारे में भी अपनी जानकरी बढाई है। आने वाली खरीफ में आपको खेती सम्बंधी कोई विशेष जानकरी चाहिये तो हम से हेल्पलाइन पर जरूर सम्पर्क करें। जिन किसानों ने इन संदेशों को सूनकर लाभ लिया है और आप चाहते है कि आपकी सफलता की कहानी इस कार्यक्रम से जुड़े सभी भाई बहन सूने तो यह भी सम्भव है। आप हमारी हेल्पलाइन पर फोन करके जरूर अपने विचार और सफलता की कहानी हमसे साझा करें। CCAFS की हेल्पलाइन है 9992220655। धन्यवाद।



May 5

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आपके जिले में आज औरकल आसमान में हल्के बादल दिखाई दे सकते हैं। कल दोपहर में तेज हवा के साथ कुछ बूंदाबांदी भी हो सकती है। उसके बाद मौसम साफ औरगर्म रहेगा। दिन का अधिकत्तम तापमान 39-42 डिग्री सेल्सियस औरन्यूनत्तम तापमान 28 डिग्री सेल्सियस बना रहेगा। सुबह के समय हवा में नमी 52-76% औरदोपहर बाद 18-31% रहने का अनुमान है। पूरवा हवा 10-17 किलोमीटर प्रति घन्टे की रफतार से चल सकती है। इस समय खेत में गहरी जुताई करें। खेत को समतल करें औरखेत की मेड़ मजबूत करें। धन्यवाद।



May 6

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों। नमस्कार। हम अपको एक बार फिर याद दिला दें कि इस बार गेहूँ की कटाई के बाद आप अपने खेत की मिट्टी का नमूना जरूर लें और अपने जिले की मिट्टी परिक्षण प्रयोगशाला में भेजें। मिट्टी का नमूना आपके खेत का सही प्रधिनित्व करें इसके लिये यह आवश्यक है कि आप खेत की उपरी 15 सेंटीमीटर यानि 6 इन्च सतह का सही नमूना लें। पूरे खेत में नाली, भूसे या देशी खाद के इक्कठा हुए स्थान, मेड़, पेड़ की छाया वाली जगह को छोड़कर पांच-छ जगह से छ इन्च गहरी सीधी परत निकालते हुए मिट्टी लें। उसे एक अखबार पर एकसार मिलाकर गोल फैला दें। फिर उसको चार भाग में बांटते हुए डंठे के सामने के दो हिस्से को निकाल दें। फिर वापस मिट्टी मिलाकर मिट्टी को कम करते रहे जब तक कि आपके पास आधा किलोग्राम मिट्टी बच जाये। इस मिट्टी को एक कपड़े की साफ थैली में आपका नाम, पता खेत और फसल की जानकारी के साथ मिट्टी परीक्षण प्रयोगशाला को भेजें। आपको आप के खेत की उर्वरक शक्ति की जानकारी के साथ अपनी फसल के लिये खाद की सिफारिश भी मिलेगी। खाद का उपयोग मिट्टी की जांच और न्यूट्रियंट एक्सपर्ट के आधार पर ही करें। धन्यवाद।



May 8

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। आप सभी ने खरीफ धान की नर्सरी लगाने के लिये बीज का इन्तजाम कर लिया होगा। धान की फसल में जड़ गलन (फुट राट)। ब्लास्ट, झुलसा (ब्लाइट) आदि ऐसे रोग हैं जिन पर नियंत्रण बीजोपचार से हो सकता है। जो किसान प्रमाणित बीज लेकर आये हैं तो वो बीज या तो उपचारित है या फिर थैली में बीजोपचार दवा की पुडि़या रखी हुई है। जो किसान अपना खुद का बीज काम में लेना चाहते हैं तो वो स्वस्थ बीज को ही रखें और इस बीज का उपचार भी करें। बीजोपचार के लिये एक एकड़ बीज के लिये दस ग्राम एमियान या दस ग्राम काब्रेन्डाजीम (बाविस्टीन) दवा और साथ में ढाई ग्राम पौसामाईसिन या एक ग्राम स्ट्रेप्टो साईक्यिन दवा की आवश्यकता होगी। सबसे पहले आप दवा का इन्तजाम कर लें। अगले किसी संदेश में हम आपको बीजोपचार कैसे करें, इस बारे में बतायेगे। किसी अन्य जानकारी के लिये आप CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



May 9

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। खेत अगर सही समतल है तो पानी का सही उपयोग होता है। खेत के एक सार समतल न होने से बीज के अंकुरण, जमाव और उपज पर असर पड़ता है। आज कल खेत समतल करने की आधुनिक प्रणाली में लेजर लेवलर काम में लिया जाता है। लेजर लेवलर से समतल खेत में 25-30% पानी कम लगता है। सिंचाई के समय में बचत हो जाती है। फसल का जमाव अच्छा होता है। फसल में बढवार और पकाव भी एक सार होता है। धान की उपज में 10-25% वृद्वि प्राप्त की जा सकती है। लेजर लेवलर खरीदने के लिये सरकार अनुदान भी दे रही है। किराये पर भी लेजर लेवलर मिल रहे हैं। यदि आपके खेत सही ढंग से समतल नहीं है तो यह समय है कि आप लेजर लेवलर से खेत समतल कराये। धन्यवाद।



May 10

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों के लिये यह संदेश CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आपके जिले में अगले तीन-चार दिनों में मौसम शुष्क औरगर्म रहेगा। दिन के समय अधिकत्तम तापमान 42-44 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है। रात में न्यूनत्तम तापमान 29-30 डिग्री सेल्सियस रहेगा। पूरवा हवा 8-15 किलोमीटर प्रति घन्टे की रफतार से चल सकती है। सुबह के समय हवा में नमी 46-66% औरदोपहर बाद 8-15% रहने का अनुमान है। इस समय खेत में गर्मी की गहरी जुताई करें। खेत की मेड मजबूत करें। गरमा मक्का में सिंचाई करें औरखरीफ फसल के लिये बीज की व्यवस्था करें। धन्यवाद।



May 11

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। पानी के गिरते स्तर को रोकने के लिये खेती के उन तरीकों को अपनाना होगा जिससे पानी कम लगे और उपज भी भरपूर मिले। धान की सीधी बिजाई भी एक ऐसा ही तरीका है जिससे पानी खड़ा करके खेत तैयार करने की जरूरत नहीं रहती । अच्छे समतल खेतो में धान की सीधी बीजाई का तरीका आसानी से अपनाया जा सकता है। पानी की बचत के साथ इस तरीके में पौध लगाने और रोपाई करने की झंझट से भी छुटकारा मिलता है और मजदूरी का खर्चा कम आता है। रोपाई के तरीकों में अकसर पौधों की रोपाई सही दूरी पर नहीं हो पाती और पौधों की संख्या कम रह जाती है लेकिन सीधी बिजाई सीड कम फर्टिलाइजर ड्रील से करने पर पौध संख्या भी बराबर बनी रहती है और पौधों को खाद भी सही ढंग से मिल जाती है, जिससे उपज भी पूरी मिलती है अतः इस बार धान की सीधी बिजाई अपनाये। धन्यवाद।



May 13

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों के लिये यह संदेश CCAFS की तरफ से दिया जा रहा हैं। समय पर धान की रोपाई हो जाय इसके लिये अब नर्सरी लगाने का समय आ गया है। नर्सरी में बीज डालने से पहले बीजोपचार कर लेना चाहिये जिससे कि बीज जनित रोगों का नियंत्रण हो सके। बीजोपचार के लिये 10 लीटर पानी में 10 ग्राम एमिसान या 10 ग्राम बाविस्टीन के साथ ढाई ग्राम पोसामाइसिन या एक ग्राम स्ट्रेप्टोसाइक्लिन दवा घोल लें। दवा के इस घोल में 10-12 किलोग्राम बीज को 24 घन्टे तक भिगोये। इसके बाद बीज को घोल से निकाल कर पक्के पर्श या बोरी पर फैलाकर गीली बोरी से 24-36 घन्टे तक ढक दें और बीज का अंकुरण होने दें। नर्सरी में अंकुरित बीज की बिजाई करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



May 14

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों को नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। एक एकड़ क्षेत्र में धान की रोपाई के लिये दसवा भाग यानि 400 वर्ग मीटर नर्सरी काफी होती है। धान की किस्म के अनुसार 15 मई से 15 जून तक का समय नर्सरी में बीज डालने के लिये उपयुक्त है। नर्सरी में बीज डालने से पहले एक एकड़ क्षेत्र में 10-12 गाड़ी अच्छी तरह से तैयार गोबर की खाद खेत में जुताई कर के मिला दें। खेत में पानी खड़ा कर गारा करें। एक एकड़ नर्सरी क्षेत्र में आधा कट्टा यूरिया, आधा कट्टा डीएपी, आधा कट्टा म्यूरेट ऑफ पोटाश और 10 किलोमीटर जिंक सल्फेट (21%जिंक) डालकर सुहागा चला कर खेत एक सार कर दें। खेत को डेढ से दो मीटर चौड़ी और सुविधाजनक लम्बी क्यारियों में बांट लें, ताकि क्यारियो में निराई-गुड़ाई और सिंचाई आसानी से हो सके। क्यारियां बनाने के बाद नर्सरी में दो इन्च ऊंचाई तक पानी भर दें और अंकुरित बीज को समान रुप से क्यारियों में बिखेर दें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



May 15

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अगले तीन-चार दिन तक आपके जिले में मौसम शुष्क और गर्मी का रहेगा। दिन का अधिकत्तम तापमान 42-43 डिग्री सेल्सियस और न्यूनत्तम तापमान 27-30 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है। सुबह के समय हवा में नमी 18-47% और दोपहर बाद 8-13% रह सकती है। पूरवा हवा 9-12 किलोमीटर प्रति घन्टा की रफतार से चलने की सम्भावना है। इस समय खरीफ की फसल के लिये बीज का प्रबन्ध करें। जायद मक्का और अन्य फसलों को सुबह या शाम के समय सिंचाई देने का काम करें। पशुओं को गर्मी से बचायें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 09992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



May 16

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। जलवायु परिवर्तन के साथ जमीन में पानी का स्तर भी नीचे गिरता जा रहा है। जल सरंक्षण और क्लाइमेट स्मार्ट खेती करके जमीन में पानी के गिरते स्तर को रोका जा सकता है। वर्षा का पानी सबसे शुद्व पानी होता है। ये पानी धरती की प्यास बुझाये बिना नदी नालों में बहकर नहीं चला जाय इसका ध्यान रखना होगा। खेत का पानी खेत में और गांव का पानी गांव में इस सिंधान्त को अपनाना होगा। खेत में पानी रोकने के लिये मेड़ बनाना और अतिरिक्त पानी के लिये जल निकास का प्रावधान करना जरूरी होगा। इसी तरह गांव या वाटर शेड स्तर पर भी पानी रोकने के लिये बान्ध बनाने होगें। पानी जमीन में हो और बह कर जाने वाले पानी की रफतार तेज न हो नहीं तो मिट्टी कटेगी। अभी खेत और गांव स्तर पर पानी रोकने का काम करें ताकि वर्षा आने पर पानी का जमीन में सग्रंहण हो सके। धन्यवाद।



May 17

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। फसल उत्पादक के साथ हमें पशुपालन पर भी पूरा ध्यान देना है। गर्मी के मौसम में पशु धन की विशेष देख रेख करनी है। सुबह शाम पशु को नहलाये। पर्याप्त मात्रा में साफ पानी पीने के लिये रखें। सन्तुलित आहार दें। हरे चारे की भी व्यवस्था करें। साथ ही आहार में खनिज की मात्रा भी मिलायें। धूप व लू के कारण पशु के बिमार होने का खतरा रहता है, इससे पशु को बचाये । इस समय पशु को खुर पका- मूंह पका रोक से बचाव के लिये भी टीका लगवाये। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



May 18

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों। आप सभी को CCAFS का नमस्कार। हमारे खेत की मिट्टी में जीवांश की मात्रा कम होती जा रही है। इसके कारण मिट्टी की जल धारण क्षमता और पौध पोषक तत्वों की उपयोग क्षमता कम हो रही है। भूमि की भौतिक दशा भी बिगड़ रही है। खेत में जीवांश की मात्रा बढाने के लिये गोबर का खाद, कम्पोस्ट, फसल अवशेष और हरीखाद का प्रयोग कर सकते हैं। आपने गेहूँ के फसल अवशेष को खेत में मिलाया होगा। जीवांश की मात्रा बढाने के लिये अभी भी समय है हरी खाद के लिये ढेंचा यानि जन्तर या सनई की बिजाई करने का एक एकड़ क्षेत्र में 10-12 किलोग्राम बीज पर्याप्त होगा। फसल 50-55 दिन की होने पर फूल होने से पहले इसे पाटा लगाकर गिरा दें और मिट्टी पलटने वाले हल से इसे खेत में मिला दें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



May 19

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अगले तीन-चार दिनों में आपके जिलें में मौसम साफ, शुष्क और गर्म रहेगा। दिन का अधिकत्तम तापमान 41-43 डिग्री सेल्सियस और न्यूनत्तम तापमान 29-30 डिग्री सेल्सियस रह सकता है। सुबह के समय हवा में नमी 24-42% और दोपहर बाद 6-9% रहने का अनुमान है। पूरवा हवा 6-9 किलोमीटर प्रति घन्टे की रफतार से चलने का अनुमान है। खेत में गर्मी की जुताई, मिट्टी परीक्षण, हरीखाद की बुवाई, गर्मी मक्का में सिंचाई का काम करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 09992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



May 20

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। बिजाई से पहले धान के बीजों को उपचारित करना आवश्यक है। धान के बीमार और हल्के बीजों को अलग क्रने के लिये पहले 10 लीटर पानी में एक किलोग्राम साधारण नमक डाल कर घोल बनाये। इस घोल में 3-4 किलोग्राम बीज एक बार में डालें। घोल के उपर तैरते हुए कमजोर बीजों को अलग करें। घोल के नीचे बैठे हुए स्वस्थ बीजों को साफ पानी में 2-3 बार अच्छी तरह घोये और फिर बीज जनित रोगों के लिये उपचारित करें। इस नमक के घोल में लगभग 10 किलोग्राम बीज उपचारित किया जा सकता है। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



May 21

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों के लिये यह संदेश CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। गेहूँ के बीच को धूप से उपचारित करके भी रोग मुक्त किया जा सकता है। गर्मी के किसी मौसम में रात और धूप वाले दिन सुबह 8 से 12 बजे तक बीज को 4 घन्टे पानी में भिगोने के बाद उसे खुली धूप में पतली परत के रुप में पक्के फर्श पर सूखा लें। पूर्णितिया सूखे बीज को दांतों से तोड़ने पर कड़क की आवाज आयेगी। सूखाये बीज को बिजाई तक किसी सूखे स्थान पर रखें। धूप उपचार से गेहूँ की खूली कांगियारी, पत्तों की कांगियारी और करनाल बंट बीमारियों के बीच जन्य जीवाणुओं का प्रभावी नियंत्रण हो जाता है। धूप उपचार के बाद किसी दवा से बीजोपचार की आवश्यकता नहीं रहती है।



May 22

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों CCAFS का नमस्कार। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अगले तीन-चार दिन तक आपके जिलें में मौसम शुष्क और गर्म बना रहेगा। दिन का अधिकत्तम तापमान 44-45 डिग्री सेल्सियस और न्यूनत्तम तापमान 29-30 डिग्री सेल्सियस बना रहेगा। सुबह के समय हवा में नमी 24-64% और दोपहर में बाद 7-17% रह सकती है। आज हवा की दिशा पिछवा रहेगी उसके बाद पूरवा हवा चलेगी और हवा की गति रहेगी 8-20 किलोमीटर प्रति घन्टा। इस समय सही समय पर धान की रोपाई करने के लिये नर्सरी तैयार कर ब¨आई करें। अगले कुछ संदेशो में हम आपको नर्सरी की देख रेख की जानकारी देगें। धन्यवाद।



May 23

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। धान की पौधशाला नर्सरी में खरपतवार नियंत्रण बहुत आवश्यक है। नर्सरी में बीज डालने के एक दो दिन बाद एकड़ क्षेत्र में छ सौ ग्राम सोफिट यानि प्रेटिलाक्लोर 30 ई.सी. और सेफनर को 60 किलोग्राम सूखी रेत में मिलाकर प्रयोग करें। इससे 80-90% खरपतवारो का नियंत्रण हो जाता है। यदि यह सम्भव नहीं है तो अंकुरित धान के बोने के 5-6 दिन बाद सवालीटर ब्यूटाक्लोर आदि नामो से मिलता है या पेण्डीमैथलीन यानि स्टाम्प दवा को 60 किलोमीटर सूखी रेत में मिलाकर एक एकड़ क्षेत्र पर डालें। इससे लगभग 60% खरपतवार नियंत्रण हो जायेगा। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



May 24

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। धान की नर्सरी में पोषक तत्वों का उपयोग स्वस्थ पौध लेने के लिये बहुत आवश्यक है। एक एकड़ क्षेत्र की नर्सरी के लिये शुरु में 10-12 गाड़ी गोबर की खाद के अलावा 20 किलोग्राम यूरिया, 20 किलोग्राम डी.ए.पी., 15 किलोग्राम म्यूरेट ऑफ पोटाश और 10 किलोग्राम जिंक सल्फेट का प्रयोग करें। बीजाई के 15 दिन बाद खरपतवार निकालने के बाद एक एकड़ के लिये 10 किलोग्राम यूरिया को 500 लीटर पानी में घोल कर छिड़काव करें। यदि पौधों पर सफेदी लिया पीलापन दिखाई दे तो ये आयरन ल©हे की कमी के लक्षण है ऐसे में यूरिया के साथ एक किलोग्राम फोरस सल्फेट मिलाकर छिड़काव करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



May 25

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। आप में से अधिकांश लोगो ने धान की नर्सरी के समय खेतों में ज्यादातर कोई और फसल नहीं होती है इसलिये कीट नर्सरी की तरफ ही आकृषित हो ऐसी सम्भावना बढ जाती है। नर्सरी में कीट प्रकोप होती ही रोगोर दो मिली लीटर दवा प्रति लीटर पानी में घोल कर छिड़कें। एक एकड़ क्षेत्र के लिये 400 मिली लीटर रोगोर दवा का 200 लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



May 26

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों CCAFS का नमस्कार। रेतीली भूमि पर, जहां जीवांश मात्रा कम हो और भूमि का पी.एच 8 से ज्यादा हो वहां धान की नर्सरी में लोह तत्व आयरन की कमी के लक्षण देखने को मिल सकते हैं। आयरन की कमी होने पर पौधे हल्के पीले रंग के दिखाई देगें। नर्सरी में लोह तत्व की कमी के लक्षण दिखाई देते ही फेरस सल्फेट के आधा प्रतिशत घोल का छिड़काव करें। एक एकड़ क्षेत्र के लिये एक किलोग्राम फेरस सल्फेट को 200 लीटर पानी में घोल कर छिड़काव करें। फेरस सल्फेट का यूरिया के साथ मिलाकर भी छिड़काव किया जा सकता है। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



May 27

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। जब भी कोई फसल ली जाती है तो उसकी उपज के अनुसार भूमि से पौध पोषक तत्वों की कुछ मात्रा फसल द्वारा ग्रहण की जाती है। फसस द्वारा लिये गये पोषक तत्वों की मात्रा की भूमि में कमी आ जाती है। इस कम हुई मात्रा को हमने भूमि में नही दी तो भूमि की उर्वरा शक्ति कम होती रहेगी और खेत कमजोर हो जायेगे। एक टन या दस क्विंटल धान की पैदावार लेने से भूमि से 20 किलोग्राम नाइट्रोजन, 11 किलोग्राम फास्फोरस और 30 किलोग्राम पोटाश तत्व की कमी होती है। पोटाश एक ऐसा तत्व है जिसकी कमी नाइट्रोजन से भी ज्यादा होती है। भूमि में इन तत्वों की उपलब्धता इनकी प्रभावी उपयोग क्षमता और फसल अवशेष द्वारा फिर से भूमि को दिये गये तत्वों को ध्यान में रखते हुए धान के लिये खाद और उर्वरक उपयोग की सिफारिश की जाती है। पोषक तत्वों के संतुलित उपयोग से ही भरपूर उपज प्राप्त की जा सकती है। धन्यवाद।



May 28

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम विभाग अगले तीन-चार दिनों में आपके जिलें में मौसम सामान्य रहेगा। दिन का अधिकत्तम तापमान 38-42 डिग्री सेल्सियस और न्यूनत्तम तापमान 23-29 डिग्री सेल्सियस रहने की सम्भावना है। सुबह के समय हवा में नमी 68-80% और दोपहर बाद 24-65% रह सकती है। कभी कभी तेज हवा चलने की भी सम्भावना है। औसतन हवा की गति 9-22 किलोमीटर प्रति घन्टा रहेगी और हवा की दिशा पूरवा होगी। ऐसे समय में खरीफ फसलों के लिये खेत की तैयारी करें। धान की नर्सरी की देख रेख करें और मक्का की खड़ी फसल में आवश्यकतानुसार सिंचाई करें। धन्यवाद।



May 29

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों। नमस्कार। पिछले साल धान के मौसम से अब तक आप अपने मोबाइल पर हर दिन CCAFS के संदेश सून रहे हैं। इन संदेशो में आपको जलवायू परिवर्तन के मद्दे नजर धान और गेहूँ की खेती बारे में जानकारी दी गई। इन संदेशो को सूनकर आपने खेत में बदलते हुए मौसम से होने वाले नुकसान को बचाया। खाद पानी और दवा का सही इस्तेमाल किया। हवा, पानी और जमीन को प्रदूषण से बचाया। खेती के खर्च को कम रखते हुए अधिक उपज ली। आपने CCAFS के संदेशो को सून और समझ कर जो फायदा लिया है अब शायद उसको दोहराने की जरूरत नहीं है। इसलिये अब जून माह से आपको हर दिन संदेश ने देते हुए सप्ताह में सिर्फ दो बार ही आवश्यक संदेश दिये जायेगे। इन संदेशो को पहले की तरह सूनते रहे और लाभ उठाये। धन्यवाद।



May 30

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों को यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। कल हमने आपको बताया था कि अब आपको CCAFS के संदेश प्रति दिन नहीं दिये जायेगे। ये संदेश अब आपको सप्ताह में दो बार मिलेगें। यह तय किया गया है कि जून महीने में हर बुधवार और शनिवार को आपको मौसम की जानकारी के साथ खेती सम्बंधी जानकारी दी जाय। CCAFS की हेल्पलाइन सेवा हर दिन उपलब्ध रहेगी। अब तक आपको जलवायु परिवर्तन के मद्दे नजर जो खेती सम्बंधी जानकारियां दी गई थी उन्हे भूले नहीं। उन्हे जरूर अपनाये और अपने तजुर्बे को अपने साथियों से साझा करें। विशेष जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



May 31

वैशाली जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के सभी किसान भाइयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अगले तीन-चार दिनों में आपके जिलें में मौसम साफ, शुष्क और गर्म रहेगा। इन दिनों अधिकत्तम तापमान 38-40 डिग्री सेल्सियस और न्यूनत्तम तापमान 26-30 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है। हवा में नमी सुबह के समय 68-75% और दोपहर बाद 7-44% रह सकती है। पूरवा हवा 15-20 किलोमीटर प्रति घन्टे की रफतार से चल सकती है। इस समय जिन्होने धान की नर्सरी नहीं लगाई है, वे नर्सरी लगाये। खड़ी नर्सरी में सिंचाई निराई-गुड़ाई और कीट नियंत्रण पर ध्यान दें। साथ ही धान के खेत की तैयारी करें। जून माह से आपको एक सप्ताह में CCAFS के दो संदेश ही प्राप्त होगें। धन्यवाद।


Copyright @ 2014 CIMMYT All Rights Reserved || Developed By :Kisan Sanchar